इंग्लैंड के इस पूर्व कप्तान ने कहा, इस भारतीय खिलाड़ी से रहना होगा सावधान

User InsightsIO

InsightsIO

3 Read

नई दिल्ली (जेएनएन)। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने अपनी टीम को भारत के खिलाफ होने वाली पांच मैचों की टेस्ट सीरीज में क्रिकेट के हर फॉर्मेट में करियर के सर्वश्रेष्ठ दौर से गुजर रहे भारतीय कप्तान विराट कोहली से बचकर रहने की सलाह दी है।

विश्व के तीन शीर्ष बल्लेबाजों में शुमार कोहली की तुलना अक्सर इंग्लैंड के युवा बल्लेबाज जो रूट के साथ की जाती रही है और पीटरसन का मानना है कि यह सही नहीं है। उन्होंने कहा, 'कोहली शानदार बल्लेबाज हैं और वह अपनी सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में हैं। रूट के आंकड़े भी बढि़या हैं, लेकिन दोनों में किसी भी तरह की तुलना ठीक नहीं होगा। कोहली का बल्लेबाजी अंदाज आक्रामक है और जिस प्रकार वह अपनी टीम के लिए बड़े स्कोर बनाते हैं वह अद्वितीय है।' पीटरसन ने कहा कि इंग्लैंड को विराट कोहली को भी रोकने का तरीका निकालना होगा। कोहली को मौजूदा दौर के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में शुमार किया जाता है।

बल्लेबाजी को लेकर फिक्रमंद

अधिकतर टीमों के बल्लेबाज उपमहाद्वीपीय परिस्थितियों में स्पिन गेंदबाजों का सामना करने में नाकाम रहते हैं। ऐसे में पीटरसन स्पिन गेंदबाजी के खिलाफ इंग्लिश टीम की बल्लेबाजी को लेकर फिक्रमंद हैं। उन्होंने एलिस्टर कुक को चेताया है कि वह इंग्लैंड के युवा बल्लेबाजों को भारत के स्पिन गेंदबाजों रविचंद्रन अश्विन, रवींद्र जड़ेजा और अमित मिश्रा के खिलाफ सचेत रहने के लिए कहें।

अश्विन की विविधता के कायल

पिछली बार इंग्लैंड टीम 2012 में भारत दौरे पर आई थी तब अश्विन को चार टेस्ट मैचों में सिर्फ 14 विकेट ही मिले थे। लेकिन उसके बाद से अश्विन के खेल में बहुत सुधार हुआ है। घरेलू जमीन पर तो अश्विन शानदार फॉर्म में हैं। भारत में खेले 22 टेस्ट मैचों में वह 153 विकेट ले चुके हैं। 2011 के बाद से घरेलू जमीन पर भारत की हर जीत में अश्विन की छाप नजर आती है। न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज जीत में भी अश्विन ने शानदार प्रदर्शन किया। पीटरसन ने अश्विन की तारीफ करते हुए कहा, 'अश्विन एक शानदार गेंदबाज हैं। उनके पास काफी विविधता है। वह हमेशा आक्रामक रहते हैं और बल्लेबाज को छकाने की कोशिश करते हैं।' इंग्लैंड के सबसे कामयाब बल्लेबाजों में शुमार पीटरसन ने कहा कि इंग्लिश बल्लेबाजों को अश्विन के 'दूसरा' से सावधान रहना होगा। उन्होंने कहा, 'जब मैं अश्विन के खिलाफ खेलता था तो मुझे इसे समझने में कोई दिक्कत नहीं हुई, लेकिन अगर इंग्लिश बल्लेबाज दूसरा को नहीं समझ पाए तो मुश्किल हो सकती है।' देखना दिलचस्प होगा कि इंग्लैंड की टीम अपने इस धुरंधर की बातों पर कितना अमल करती है।

 

Please select a Choice!!

Please select a Choice!!

Please complete your profile. You need to do this only once.

Your data will be private & will never be misused.

Please Wait ...

With Detailed Graphs

Without Detailed Graphs